मंत्र विद्या : जैन दृष्टि

मंत्र विद्या : जैन दृष्टि

मानव जीवन दुर्लभ है। उसका अन्तिम साध्य आवागमन के बंधन से उन्मुक्त होना है। जिसका एकमात्र साधन है धर्म—आराधना। धर्म...

दिगम्बर जैन आम्नाय में मंत्र व्यवस्था

दिगम्बर जैन आम्नाय में मंत्र व्यवस्था

सारांशद्वादशांग जिनवाणी के बारहवें दृष्टिवादांग के १४ पूर्वों में १०वाँ विद्यानुवाद पूर्व है जो तंत्र,मंत्र एवं यंत्र से सम्बद्ध है।...

चन्देरी से ज्ञात विरल दिगम्बर जैन पाषाणों में उत्कीर्ण यन्त्र

चन्देरी से ज्ञात विरल दिगम्बर जैन पाषाणों में उत्कीर्ण यन्त्र

सारांशम.प्र के अशोकनगर जिले मेंस्थित चन्देरी जैन कला के प्रयोग तो महत्त्वपूर्ण है ही यहाँ पर स्थित पाषाण यंत्र भी...