‘‘सत्यमेव जयते’’

‘‘सत्यमेव जयते’’

यह अटल सत्य है कि अंत में ‘विजय सच्चाई की ही होती है’। भ्रांतियों के बादल कितने भी घने क्यों...

‘‘मैं समय हूँ’’

‘‘मैं समय हूँ’’

‘समय’ के नाम से कुण्डलपुर का इतिहास एक वार्ता(फरवरी २००३ कुण्डलपुर में पंचकल्याणक महोत्सव के अवसर पर मंचित एक रूपक)(पूज्य...

‘भगवान महावीर की जन्मभूमि कुण्डलपुर रत्नगर्भा एवं चमत्कारिक भूमि है’’

‘भगवान महावीर की जन्मभूमि कुण्डलपुर रत्नगर्भा एवं चमत्कारिक भूमि है’’

‘‘या कुण्डलपुरी पूज्या, मंगलं कुरुताद् भुवि, जन्मभूमि: प्रसिद्धास्ति महावीरस्य संप्रति। राजधानीह सिद्धार्थ, भूपते: साधुभिर्नुता, नंद्यावर्तं च प्रासादं, रत्नवृष्ट्या सुमंगलम्।।’’ उपर्युक्त...

‘कुण्डलपुर के महावीरा ! शतश: वंदन’

‘कुण्डलपुर के महावीरा ! शतश: वंदन’

-सौ. समीक्षा नांदगांवकर, नागपुर (महा.) भारत की पुण्यभूमि में यहाँ की मिट्टी को चंदन जैसा गौरव प्रदान करने के लिए...

श्री महावीर भगवान की महिमा

श्री महावीर भगवान की महिमा

विधानाचार्य पं. प्रवीणचंद्र जैन शास्त्री जम्बूद्वीप-हस्तिनापुर तर्ज-जिया बेकरार है………….. महिमा अपार है, गुण का जो आधार है। महावीर भगवान का, नाम...

श्री गिरनार जी तीर्थक्षेत्र का परिचय’

श्री गिरनार जी तीर्थक्षेत्र का परिचय’

लेखक-पीठाधीश क्षुल्लक मोतीसागर गुजरात प्रान्त में स्थित गिरनार पर्वत एक निर्वाणक्षेत्र के रूप में सुप्रसिद्ध तीर्थ है। षट्खण्डागम सिद्धान्तशास्त्र की...

श्रद्धा के धरातल पर बना भव्य कुण्डलपुर

श्रद्धा के धरातल पर बना भव्य कुण्डलपुर

भगवान महावीर जन्मभूमि, जिसे हमने अपने होश संभालने के साथ ही कुण्डलपुर के रूप में पढ़ा था, जाना था, गणिनीप्रमुख...

वीर जन्मभूमि-एक चिंतन

वीर जन्मभूमि-एक चिंतन

-डॉ. अभयप्रकाश जैन, ग्वालियर कुण्डलपुर (नालंदा) भगवान महावीर की जन्मभूमि है-पावन धरा है। यहाँ नंद्यावर्त महल है-यहाँ एक विशाल जैन...

रोशन हुई कुण्डलपुर की धरा

रोशन हुई कुण्डलपुर की धरा

यूँ तो प्रत्येक नगर एवं ग्राम में प्रतिदिन शासनपति भगवान महावीर के नाम की अनुगूँज रहती ही है और कुण्डलपुर...

राजगृही तीर्थ का महत्त्व

राजगृही तीर्थ का महत्त्व

राजगृही तीर्थ का महत्त्व भव्यात्माओं! मगध देश में अत्यन्त प्राचीन राजगृही नगरी है जो युगानुयुग से प्रसिद्ध है। वर्तमान में...